काली नदी सफाई हेतु जुटेंगे ग्रामीण - दो अक्टूबर से प्रारम्भ होगा सफाई कार्य

नीर फाउंडेशन पिछले करीब एक दशक से गंगा की प्रमुख सहायक नदी काली पूर्वी के सुधार हेतु प्रयासरत है। यह नदी मुजफ्फरनगर जनपद से प्रारम्भ होकर मेरठ, हापुड़, बुलंदशहर, अलीगढ़, एटा फरूर्खाबाद, कासगंज तथा अंत में कन्नौज जनपद में जाकर गंगा नदी में समाहित हो जाती है। इस नदी की कुल लम्बाई करीब 500 किलोमीटर है तथा इसके दोनों ओर करीब 1200 गांव बसे हुए हैं।

नीर फाउंडेशन द्वारा रिसर्च एण्ड रिलीफ सहित विभिन्न संगठनों के सहयोग से आगामी एक अक्टूबर से नदी सफाई का वृहद कार्यक्रम प्रारम्भ करने जा रहा है। इस कार्यक्रम को पांच चरणों में विभाजित किया गया है। नदी सेवा का यह पहला चरण होगा। पहले चरण में किला परीक्षितगढ़ रोड़ पर भावनपुर-गांवड़ी के निकट काली नदी की सफाई का कार्य प्रारम्भ किया जाएगा। प्रत्येक चरण में सफाई हेतु नदी की दूरी पांच किलोमीटर तय की गई है। काली नदी को लेकर दो स्तरों से कार्य प्रारम्भ किया जा रहा है। पहले स्तर में उद्गम स्थल मुजफ्फरनगर जनपद के अंतवाड़ा गांव में करीब 150 हेक्टेयर की झील का निर्माण करना व मुजफ्फरनगर जनपद में नदी की कुल दूरी 14 किलोमीटर को साफ करना है, जबकि दूसरे स्तर में मेरठ जनपद में नदी के प्रारम्भ से लेकर मेरठ की सीमा से नदी के बाहर निकलने तक करीब 25 किलोमीटर की दूरी का साफ करना है। एक अक्टूबर से प्रारम्भ हो रहे नदी सफाई के इस कार्यक्रम में विभिन्न सामाजिक व धार्मिक संगठनों, किसानों, छात्रों व विषय विशेषज्ञ शामिल होंगे। यह कार्यक्रम स्थानीय प्रशासन के सहयोग से प्रारम्भ किया जाएगा।

गौरतलब है कि नीर फाउंडेशन द्वारा डब्ल्यू डब्ल्यू एफ के सहयोग से नदी का तकनीकी अध्ययन किया जा चुका है। इस अध्ययन को तत्कालीन केंद्रीय जल संसाधन, नदी विकास एवं गंगा सुधार मंत्राल की मंत्री सुश्री उमा भारती को सौंपा गया था। उस रिपोर्ट के आधार पर ही इसको नमामि गंगे योजना में शामिल किया गया था। इसके अतिरिक्त नदी किनारे के गांवों में भूजल के प्रदूषित हो जाने के परिणामरूपरूप वहां पनप रही गंभीर जानलेवा बीमारियों का एक सर्वे कराकर पूर विषय को माननीय राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण के समक्ष रखा गया था। माननीय राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण ने सरकार को आदेशित किया था कि नदी किनारे के सभी गांवों के हैण्डपम्पों के पानी के नमूनों का परीक्षण कराकर प्रदूषित पानी देने वाले हैण्डपम्पों को उखाड़ कर गांव में स्वच्छ पेयजल की व्यवस्था की जाए। नदी के उद्गम पर झील बनाने की पहल भी संगठन द्वारा जुलाई माह में प्रारम्भ की गई थी।

दो अक्टूबर से प्रारम्भ होने वाले नदी सेवा के कार्य में उत्तर प्रदेश सरकार के पूर्व डीजीपी श्री आर एन सिंह, मेरठ के सांसद श्री राजेन्द्र अग्रवाल, किठौर विधायक श्री सत्यवीर त्यागी, लोकदल के जिलाध्यक्ष श्री राहुल देव, रिसर्च एण्ड रिलीफ सोसाइटी के निदेशक श्री नवीन प्रधान, गांव-100 समूह के श्री राजीव त्यागी, नेहरू युवा केंद्र, सेवा भारती, नारायण फाउंडेशन, कदम फाउंडेशन, सारथी सोसाइटी, अरूणोदय, सिविल डिफेंस, आर्य समाज, शांतिकुन्ज, रोटरी क्लब, बीडीएस इंस्टीटयूट के छात्रों सहित बड़ी संख्या में गांवड़ी, छिलौरा, भावनपुर व औरंगाबाद आदि गांवों के किसान व स्वयं सेवक भाग लेंगे। 

नदी सेवा की खास बातें :

1. एक अक्टूबर से लगातार चलेगा सफाई कार्यक्रम

2. मुजफ्फरनगर से हापुड़ की सीमा में प्रवेश करने तक नदी सफाई का होगा प्रयास

3. सरकार व नेशनल गंगा विकास प्राधिकरण के नुमाइंदे होंगे शामिल

4. सरकार व समाज के सामुहिक प्रयास से होगा कार्य

5. किसान, सामाजिक कार्यकर्ता व छात्र होंगे शामिल

6. पांच चरणों में होगा कार्य पूर्ण

7. पहले चरण में पांच किलोमीटर नदी की होगी सफाई

 

(रमन कान्त त्यागी)

निदेशक (नीर फाउंडेशन)

9411676951

काली नदी सफाई हेतु जुटेंगे ग्रामीण - दो अक्टूबर से प्रारम्भ होगा सफाई कार्यनीर फाउंडेशन पिछले क

Related Pictures

इस इवेंट में आरएसवीपी करें

Must Read.

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - मोरकुक्का गाँव में स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने हेतु वाटर फ़िल्टर व आर.ओ का वितरण

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - मोरकुक्का गाँव में स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने हेतु वाटर फ़िल्टर व आर.ओ का वितरण

नीर फाउंडेशन विगत कई वर्षों से काली नदी पूर्वी को निर्मल व स्वच्छ बनाने की दिशा में कार्य कर रही है. नदी के प्रदूषित जल द्वारा गांव में घुल ......

ईस्ट काली रिवर वॉटरकीपर - मोरकुक्का ग्राम को प्रदूषित जल से मुक्ति दिलाने हेतु नीर फाउंडेशन की सार्थक पहल

ईस्ट काली रिवर वॉटरकीपर - मोरकुक्का ग्राम को प्रदूषित जल से मुक्ति दिलाने हेतु नीर फाउंडेशन की सार्थक पहल Event

काली नदी पूर्वी के कारण आस पास के गांवों में घुल रहे प्रदूषण के जहर से मुक्ति दिलाने में नीर फाउंडेशन लंबे समय से प्रयासरत है. इसी कड़ी में 2......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर – सुधरेगी पूर्वी काली नदी की सेहत, केंद्र सरकार ने पारित किया 682 करोड़ का बजट

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर – सुधरेगी पूर्वी काली नदी की सेहत, केंद्र सरकार ने पारित किया 682 करोड़ का बजट

काली नदी के जीर्णोद्धार के लिए कुछ विकास कार्यों को पहले ही मंजूरी मिल चुकी है. इसके अलावा अंतवाड़ा में एक झील का निर्माण होगा. उद्गम स्थल प......

रमन कांत – प्रकृति की सेवा के लिए संकल्पित एक जाना-माना नाम

रमन कांत – प्रकृति की सेवा के लिए संकल्पित एक जाना-माना नाम

पर्यावरण संरक्षण की दिशा में कृत संकल्पित रमन कांत त्यागी जी एक ऐसी युवा शक्ति का नाम है, जिन्होंने अपना समस्त जीवन प्रकृति की सेवा में ही ल......

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - नकारने से और नासूर बन जाएगी मौसम परिवर्तन की समस्या

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - नकारने से और नासूर बन जाएगी मौसम परिवर्तन की समस्या

24वां कन्वेंशन ऑफ द पार्टीज अर्थात कोप-24 के माध्यम से आगामी 2 से 14 दिसम्बर 2018 तक पोलैण्ड के शहर काटोवाइस में जलवायु परिवर्तन की गंभीर सम......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - लालच की भेंट चढ रहे समाज के आधार.. हमारे जलस्रोत

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - लालच की भेंट चढ रहे समाज के आधार.. हमारे जलस्रोत

गैर-सरकारी संगठन नीर फाउंडेशन द्वारा मेरठ जनपद के परीक्षितगढ़ ब्लॉक के प्राकृतिक जल स्रोतों व अन्य जल संसाधनों पर एक रिपोर्ट तैयार की गई है। ......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - नदी सेवा : काली नदी की सफाई में श्रमदान हेतु आप सादर आमंत्रित हैं

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - नदी सेवा : काली नदी की सफाई में श्रमदान हेतु आप सादर आमंत्रित हैं Event

काली नदी सफाई हेतु जुटेंगे ग्रामीण - दो अक्टूबर से प्रारम्भ होगा सफाई कार्यनीर फाउंडेशन पिछले करीब एक दशक से गंगा की प्रमुख सहायक नदी काली प......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - उत्तर प्रदेश की प्रस्तावित नदी नीति : मेरठ घोषणापत्र

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - उत्तर प्रदेश की प्रस्तावित नदी नीति : मेरठ घोषणापत्र

उत्तर प्रदेश की अधिकतर नदियां अब नाला बन गई हैं। बाढ़-सुखाड़ ने इन्हें मार दिया है, शहरीकरण ने इनकी आस्था एवं पर्यावरण रक्षा वाला व्यवहार और स......