East Kali River has witnessed uncountable encounters with filth, sewage, chemical discharge and solid waste disposal in its recent decades. NEER Foundation has been in action since year 2010 to get attention to the river’s plight through its agitation, campaign, rejuvenation activities and approach to concerned governments. In year 2015, NEER was introduced to Waterkeeper Alliance and Raman Kant has been appointed as East Kali River Waterkepeer.  Now the work plan received uplift and its horizon expanded.

Through partnership with World Wide Fund India, a research study of water samples of whole length of East Kali River was conducted and the reports submitted to the governments directly. Based on the reports, the river body has been included in rejuvenation project of Holy Ganga River “Namami Gange” by Indian Government. Raman and his team have put in the field work for the project. This year i.e. 2017-18, has also witnessed one more crucial achievement on river’s front, receiving heads up from the state government for bringing clean waters to East Kali!!

 East Kali River has witnessed uncountable encounters with filth, sewage,
chemical discharge and soliSuccess story:

After attending the annual conference in Salt city in year 2017, Raman designed the plan to bring fresh waters to our almost dying river to rejuvenate it. As our river body is a monsoon river which hasn’t seen much waters in last 2 decades due to fewer rains and decreasing ground water levels, it doesn’t have much waters left at its origination length. 

As it has been discovered that the river originates from a pond in Muzafarnagar district of Uttar Pradesh state, the water level is only 5 feet here. But in' monsoons, it comes up and starts flowing into a stream. Other smaller streams flow into it and this takes formation of the river passing from eight districts and finally submerging into Holy Ganga River. In between at Kaasganj, about 50 cusec water is added to the river.

Due to shortage of waters in the river stream, the pollution keeps building up. Until fresh waters are added, the regeneration of the river is nearly impossible.

Hence, the East Kali River Waterkeeper approached the Irrigation dept. of Uttar Pradesh state government, to initiate a project for adding fresh waters to the East Kali River. After long persuasion, they have finally agreed and the project named “Remodeling of Khatauli Drain and Antwada Minor for supplementing 115 cusec  water to Kali

River East” has been put in force. Under this project, 115 cusec waters will be brought to origination pond of East Kali River from Khatauli drain through construction of an another drain linking the two rivers and increasing the size of the located pond. The project proposal and its budget have been submitted to Ministry of Water conservation, River development and Ganga Rejuvenation, Government of India, by the state government. The total budget stands at INR 1,682.35 lacs.  

 Benefits of the Proposal:

When the waters will add to the origination pond, the river will flow in greater volume with fresh waters pushing away the pollutants and recharging the ground water. It will also aid in providing better waters for irrigation to the farming communities residing on the banks of East Kali River.

 

Related Pictures

Leave a Comment

Comments

  • Abhinav
  • May 31, 2018, 8:12 a.m.

A welcome step by Administration. This will definitely boost the flora & fauna of the river . Also will help river to retain its natural state.

Must Read.

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - मोरकुक्का गाँव में स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने हेतु वाटर फ़िल्टर व आर.ओ का वितरण

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - मोरकुक्का गाँव में स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने हेतु वाटर फ़िल्टर व आर.ओ का वितरण Updates

नीर फाउंडेशन विगत कई वर्षों से काली नदी पूर्वी को निर्मल व स्वच्छ बनाने की दिशा में कार्य कर रही है. नदी के प्रदूषित जल द्वारा गांव में घुल ......

ईस्ट काली रिवर वॉटरकीपर - मोरकुक्का ग्राम को प्रदूषित जल से मुक्ति दिलाने हेतु नीर फाउंडेशन की सार्थक पहल

ईस्ट काली रिवर वॉटरकीपर - मोरकुक्का ग्राम को प्रदूषित जल से मुक्ति दिलाने हेतु नीर फाउंडेशन की सार्थक पहल Event

काली नदी पूर्वी के कारण आस पास के गांवों में घुल रहे प्रदूषण के जहर से मुक्ति दिलाने में नीर फाउंडेशन लंबे समय से प्रयासरत है. इसी कड़ी में 2......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर – सुधरेगी पूर्वी काली नदी की सेहत, केंद्र सरकार ने पारित किया 682 करोड़ का बजट

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर – सुधरेगी पूर्वी काली नदी की सेहत, केंद्र सरकार ने पारित किया 682 करोड़ का बजट Updates

काली नदी के जीर्णोद्धार के लिए कुछ विकास कार्यों को पहले ही मंजूरी मिल चुकी है. इसके अलावा अंतवाड़ा में एक झील का निर्माण होगा. उद्गम स्थल प......

रमन कांत – प्रकृति की सेवा के लिए संकल्पित एक जाना-माना नाम

रमन कांत – प्रकृति की सेवा के लिए संकल्पित एक जाना-माना नाम Updates

पर्यावरण संरक्षण की दिशा में कृत संकल्पित रमन कांत त्यागी जी एक ऐसी युवा शक्ति का नाम है, जिन्होंने अपना समस्त जीवन प्रकृति की सेवा में ही ल......

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - नकारने से और नासूर बन जाएगी मौसम परिवर्तन की समस्या

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - नकारने से और नासूर बन जाएगी मौसम परिवर्तन की समस्या Updates

24वां कन्वेंशन ऑफ द पार्टीज अर्थात कोप-24 के माध्यम से आगामी 2 से 14 दिसम्बर 2018 तक पोलैण्ड के शहर काटोवाइस में जलवायु परिवर्तन की गंभीर सम......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - लालच की भेंट चढ रहे समाज के आधार.. हमारे जलस्रोत

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - लालच की भेंट चढ रहे समाज के आधार.. हमारे जलस्रोत Updates

गैर-सरकारी संगठन नीर फाउंडेशन द्वारा मेरठ जनपद के परीक्षितगढ़ ब्लॉक के प्राकृतिक जल स्रोतों व अन्य जल संसाधनों पर एक रिपोर्ट तैयार की गई है। ......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - नदी सेवा : काली नदी की सफाई में श्रमदान हेतु आप सादर आमंत्रित हैं

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - नदी सेवा : काली नदी की सफाई में श्रमदान हेतु आप सादर आमंत्रित हैं Event

काली नदी सफाई हेतु जुटेंगे ग्रामीण - दो अक्टूबर से प्रारम्भ होगा सफाई कार्यनीर फाउंडेशन पिछले करीब एक दशक से गंगा की प्रमुख सहायक नदी काली प......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - उत्तर प्रदेश की प्रस्तावित नदी नीति : मेरठ घोषणापत्र

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - उत्तर प्रदेश की प्रस्तावित नदी नीति : मेरठ घोषणापत्र Updates

उत्तर प्रदेश की अधिकतर नदियां अब नाला बन गई हैं। बाढ़-सुखाड़ ने इन्हें मार दिया है, शहरीकरण ने इनकी आस्था एवं पर्यावरण रक्षा वाला व्यवहार और स......