According to the study conducted by Central Ground Water Board in the year 1999-2001, the results of hundreds of samples collected along the total length of the river water (river water and hand pump) were really shocking. In these samples, lead, chromium, iron, zinc, alongwith other elements were found to be present. According to the report villages namely Chidora, Yahiyapur and Jamad of Muzaffarnagar district; 

Dhanju, Dedwa, Ulaspur, Bichaula, Mainthna, Rasulpur, Gesupur, Kudhla, Muradpur Badaula, Kaul, Jaibheemnagar and Yadnagar of Meerut district; Ajrada and Hapur in Ghaziabad; Akbarpur, Sadharanpur and Utsara, Ajitpur, Laughara, Mankhera, Baknaura and Anchrukla in Bulandshahr district; Mainpur, Sikandarpur and Rasooli in Aligarh and Rajpura, Baalipura and Naveenganj in Kannauj suffer badly from the pollution of the river. 

The life in these villages is miserable due to non-availability of safe drinking water. According to the report, up to the depth of 30-35 m at Meerut and Ghaziabad as well as its surrounding areas, heavy metals have been found in large limits exceeding the standards.

According to the study conducted by Central Ground Water Board in the year 1999-2001, the results of

In the year 1999, a preliminary report was prepared on the instructions of Dr. D.K. Chaddha, president, Central ground water board and Mr. P.C. Chaturvedi regional director based on the data of chemical tests carried out on the river and groundwater samples collected from the Kali river (east) and nearby areas and Meerut and Ghaziabad. The then Water resources minister, Govt. of India, Mr. Sompal Shashtri released the report during a public awareness drive held at Ganganagar, Meerut. This preliminary report on Kali river was based on the presence of heavy metals in groundwater and river water. Dozens of copies of this report were prepared and distributed among the locales. 

Mr. Shobhnath, regional director instructed to widen the scope of the study and present the report with a wider context in Hindi. This report being in English was of not much use for a common man. On the suggestion of the Regional Director, the report was translated and re-published in Hindi.

Related Pictures

Is this relevant to you? Leave a Message

Must Read.

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - मोरकुक्का गाँव में स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने हेतु वाटर फ़िल्टर व आर.ओ का वितरण

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - मोरकुक्का गाँव में स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने हेतु वाटर फ़िल्टर व आर.ओ का वितरण

नीर फाउंडेशन विगत कई वर्षों से काली नदी पूर्वी को निर्मल व स्वच्छ बनाने की दिशा में कार्य कर रही है. नदी के प्रदूषित जल द्वारा गांव में घुल ......

ईस्ट काली रिवर वॉटरकीपर - मोरकुक्का ग्राम को प्रदूषित जल से मुक्ति दिलाने हेतु नीर फाउंडेशन की सार्थक पहल

ईस्ट काली रिवर वॉटरकीपर - मोरकुक्का ग्राम को प्रदूषित जल से मुक्ति दिलाने हेतु नीर फाउंडेशन की सार्थक पहल Event

काली नदी पूर्वी के कारण आस पास के गांवों में घुल रहे प्रदूषण के जहर से मुक्ति दिलाने में नीर फाउंडेशन लंबे समय से प्रयासरत है. इसी कड़ी में 2......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर – सुधरेगी पूर्वी काली नदी की सेहत, केंद्र सरकार ने पारित किया 682 करोड़ का बजट

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर – सुधरेगी पूर्वी काली नदी की सेहत, केंद्र सरकार ने पारित किया 682 करोड़ का बजट

काली नदी के जीर्णोद्धार के लिए कुछ विकास कार्यों को पहले ही मंजूरी मिल चुकी है. इसके अलावा अंतवाड़ा में एक झील का निर्माण होगा. उद्गम स्थल प......

रमन कांत – प्रकृति की सेवा के लिए संकल्पित एक जाना-माना नाम

रमन कांत – प्रकृति की सेवा के लिए संकल्पित एक जाना-माना नाम

पर्यावरण संरक्षण की दिशा में कृत संकल्पित रमन कांत त्यागी जी एक ऐसी युवा शक्ति का नाम है, जिन्होंने अपना समस्त जीवन प्रकृति की सेवा में ही ल......

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - नकारने से और नासूर बन जाएगी मौसम परिवर्तन की समस्या

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - नकारने से और नासूर बन जाएगी मौसम परिवर्तन की समस्या

24वां कन्वेंशन ऑफ द पार्टीज अर्थात कोप-24 के माध्यम से आगामी 2 से 14 दिसम्बर 2018 तक पोलैण्ड के शहर काटोवाइस में जलवायु परिवर्तन की गंभीर सम......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - लालच की भेंट चढ रहे समाज के आधार.. हमारे जलस्रोत

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - लालच की भेंट चढ रहे समाज के आधार.. हमारे जलस्रोत

गैर-सरकारी संगठन नीर फाउंडेशन द्वारा मेरठ जनपद के परीक्षितगढ़ ब्लॉक के प्राकृतिक जल स्रोतों व अन्य जल संसाधनों पर एक रिपोर्ट तैयार की गई है। ......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - नदी सेवा : काली नदी की सफाई में श्रमदान हेतु आप सादर आमंत्रित हैं

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - नदी सेवा : काली नदी की सफाई में श्रमदान हेतु आप सादर आमंत्रित हैं Event

काली नदी सफाई हेतु जुटेंगे ग्रामीण - दो अक्टूबर से प्रारम्भ होगा सफाई कार्यनीर फाउंडेशन पिछले करीब एक दशक से गंगा की प्रमुख सहायक नदी काली प......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - उत्तर प्रदेश की प्रस्तावित नदी नीति : मेरठ घोषणापत्र

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - उत्तर प्रदेश की प्रस्तावित नदी नीति : मेरठ घोषणापत्र

उत्तर प्रदेश की अधिकतर नदियां अब नाला बन गई हैं। बाढ़-सुखाड़ ने इन्हें मार दिया है, शहरीकरण ने इनकी आस्था एवं पर्यावरण रक्षा वाला व्यवहार और स......