Meerut: Alarming as it may sound but a recent study has revealed the presence of dangerously high levels of heavy metals in Kali river (east). The study, conducted by  NEER foundation, an NGO, found high levels of lead and iron in the river water, which also lead to groundwater contamination. The water samples were collected from villages to eight districts namely Muzaffarnagar, Meerut, Hapur, Bulandshahr, Aligarh, Kaasganj, Farukhabad and Kannauj. The villages are situated on the banks of the rivers.

        The water samples were later sent for testing at the Dehradun based People’s science Institute (PSI). The findings revealed that high levels of metals could cause groundwater contamination as several villages are located within 2-3 km radius of the river.

          If this remains unchecked, it could lead to a public health crisis in future. Kali river, a tributary of the Ganga, originates in Muzaffarnagar district and merges with the Ganga in Kannauj district after passing through a stretch of more than 300 km. Elaborating on the findings, Anil Gautam of the PSI said, “It is an irony that the tributary rivers of Ganga are extremely polluted. Their water can not be used for irrigation purposes.”

         Discussing the issue, Raman Tyagi, director of NEER foundation, said, “On the one hand, the central government is running campaigns such as ‘Namami Gange’ to make the Ganga pollution free, but on the other, the government is least concerned about its  tributary rivers, which are being badly polluted due to polluting units along rivers such as distilleries , sugar mills and industries. Until the tributary rivers are not made pollution- free, all efforts of ‘Namami Gange’ will be useless.”

       Tyagi said discussions with villagers and doctors of respective villages, from where the water samples were collected, had also revealed that a large number of villagers were suffering from stomach ailments, brain disorders and even cancer.

         “doctors revealed that a large number of people had died due to cancer owing to ground water contamination but the same not been reported by the health department,” added Tyagi.

The Permissible Limits  :

·         According to Indian standard is ;pH( 6.5- 8.5 ), Total Dissolved solids (500 mg/L), lead (0.01 mg/L), iron (0.3 mg/L)

·         The study, conducted by NEER foundation, an NGO, found high levels of lead and iron in the river water, which also contaminate ground water.

Several people in the villages are suffering from stomach ailments, brain disorders and even cancer. Despite this, the issue has not been reported by the health department. 

Related Pictures

Is this relevant to you? Leave a Message

Must Read.

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - मोरकुक्का गाँव में स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने हेतु वाटर फ़िल्टर व आर.ओ का वितरण

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - मोरकुक्का गाँव में स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने हेतु वाटर फ़िल्टर व आर.ओ का वितरण

नीर फाउंडेशन विगत कई वर्षों से काली नदी पूर्वी को निर्मल व स्वच्छ बनाने की दिशा में कार्य कर रही है. नदी के प्रदूषित जल द्वारा गांव में घुल ......

ईस्ट काली रिवर वॉटरकीपर - मोरकुक्का ग्राम को प्रदूषित जल से मुक्ति दिलाने हेतु नीर फाउंडेशन की सार्थक पहल

ईस्ट काली रिवर वॉटरकीपर - मोरकुक्का ग्राम को प्रदूषित जल से मुक्ति दिलाने हेतु नीर फाउंडेशन की सार्थक पहल Event

काली नदी पूर्वी के कारण आस पास के गांवों में घुल रहे प्रदूषण के जहर से मुक्ति दिलाने में नीर फाउंडेशन लंबे समय से प्रयासरत है. इसी कड़ी में 2......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर – सुधरेगी पूर्वी काली नदी की सेहत, केंद्र सरकार ने पारित किया 682 करोड़ का बजट

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर – सुधरेगी पूर्वी काली नदी की सेहत, केंद्र सरकार ने पारित किया 682 करोड़ का बजट

काली नदी के जीर्णोद्धार के लिए कुछ विकास कार्यों को पहले ही मंजूरी मिल चुकी है. इसके अलावा अंतवाड़ा में एक झील का निर्माण होगा. उद्गम स्थल प......

रमन कांत – प्रकृति की सेवा के लिए संकल्पित एक जाना-माना नाम

रमन कांत – प्रकृति की सेवा के लिए संकल्पित एक जाना-माना नाम

पर्यावरण संरक्षण की दिशा में कृत संकल्पित रमन कांत त्यागी जी एक ऐसी युवा शक्ति का नाम है, जिन्होंने अपना समस्त जीवन प्रकृति की सेवा में ही ल......

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - नकारने से और नासूर बन जाएगी मौसम परिवर्तन की समस्या

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - नकारने से और नासूर बन जाएगी मौसम परिवर्तन की समस्या

24वां कन्वेंशन ऑफ द पार्टीज अर्थात कोप-24 के माध्यम से आगामी 2 से 14 दिसम्बर 2018 तक पोलैण्ड के शहर काटोवाइस में जलवायु परिवर्तन की गंभीर सम......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - लालच की भेंट चढ रहे समाज के आधार.. हमारे जलस्रोत

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - लालच की भेंट चढ रहे समाज के आधार.. हमारे जलस्रोत

गैर-सरकारी संगठन नीर फाउंडेशन द्वारा मेरठ जनपद के परीक्षितगढ़ ब्लॉक के प्राकृतिक जल स्रोतों व अन्य जल संसाधनों पर एक रिपोर्ट तैयार की गई है। ......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - नदी सेवा : काली नदी की सफाई में श्रमदान हेतु आप सादर आमंत्रित हैं

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - नदी सेवा : काली नदी की सफाई में श्रमदान हेतु आप सादर आमंत्रित हैं Event

काली नदी सफाई हेतु जुटेंगे ग्रामीण - दो अक्टूबर से प्रारम्भ होगा सफाई कार्यनीर फाउंडेशन पिछले करीब एक दशक से गंगा की प्रमुख सहायक नदी काली प......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - उत्तर प्रदेश की प्रस्तावित नदी नीति : मेरठ घोषणापत्र

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - उत्तर प्रदेश की प्रस्तावित नदी नीति : मेरठ घोषणापत्र

उत्तर प्रदेश की अधिकतर नदियां अब नाला बन गई हैं। बाढ़-सुखाड़ ने इन्हें मार दिया है, शहरीकरण ने इनकी आस्था एवं पर्यावरण रक्षा वाला व्यवहार और स......