MEERUT: Rivers in western Uttar Pradesh like Kali, Krishna and Hindon have been polluted to dangerous levels because of the industrial waste released illegally into them by the industries.  So grave is the pollution that they have also contaminated the groundwater of hundreds of villages located on the banks of these rivers thereby endangering the health of millions of people, revealed a scientific study of one of the rivers Kali which flows through nine districts and covers about 200 km.

         Testing of 16 water samples, eight of ground water and eight of river water from eight districts which the Kali flows through has shown that not only the river water has been seriously contaminated but that has also contaminated the groundwater of the villages located on its bank in eight districts.

        The tests were done from the government- approved lab ‘the Dehradun-based People’s Science Institute’ (PSI). The villages from where samples were picked are located in a radius of 2 kilometers of Kali.

          The heavy metals present in the Kali have entered the groundwater of these villages through seepage. The results of the test has shown that dangerously high levels of lead, total dissolved solids and iron, have been found in the water samples picked from the hand pump of eight villages, According to Sunil Gupta, senior consultant, medical oncologist, Rajiv Gandhi Cancer Institute and Research Centre, Delhi, continued consumption of heavy metals can have serious diseases like cancer.

         Accordingly the research team of Meerut- based NEER Foundation which did the study of water in Kali river in collaboration with WWF, found several cases of stomach ailments, brain disorder and even cancer among the residents of these villages.

           Raman Tyagi, the director of the NEER Foundation, told THE HINDU that “while these villages don’t have good public health system private doctors in these villages told us that a large number of people suffer from serious diseases and many of them had died due to cancer owing to groundwater contamination.

            For instance, the amount of lead in villages located in Muzaffarnagar, Bulandshahr and Aligarh was dangerously high, The amount of lead in the water in a hand pump at Rampura village in Bulandshahr was 0.35 mg/L which is 35 times higher than its permissible limit of 0.01 mg/L in ground water.

               The residents of Antwada  village in Jansath block of Muzaffarnagar, were found to be using a hand pump where the amount of lead was found to be 0.21 mg/L which is 21 times of the permissible limit.   

       

Related Pictures

Is this relevant to you? Leave a Message

Must Read.

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - मोरकुक्का गाँव में स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने हेतु वाटर फ़िल्टर व आर.ओ का वितरण

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - मोरकुक्का गाँव में स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने हेतु वाटर फ़िल्टर व आर.ओ का वितरण

नीर फाउंडेशन विगत कई वर्षों से काली नदी पूर्वी को निर्मल व स्वच्छ बनाने की दिशा में कार्य कर रही है. नदी के प्रदूषित जल द्वारा गांव में घुल ......

ईस्ट काली रिवर वॉटरकीपर - मोरकुक्का ग्राम को प्रदूषित जल से मुक्ति दिलाने हेतु नीर फाउंडेशन की सार्थक पहल

ईस्ट काली रिवर वॉटरकीपर - मोरकुक्का ग्राम को प्रदूषित जल से मुक्ति दिलाने हेतु नीर फाउंडेशन की सार्थक पहल Event

काली नदी पूर्वी के कारण आस पास के गांवों में घुल रहे प्रदूषण के जहर से मुक्ति दिलाने में नीर फाउंडेशन लंबे समय से प्रयासरत है. इसी कड़ी में 2......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर – सुधरेगी पूर्वी काली नदी की सेहत, केंद्र सरकार ने पारित किया 682 करोड़ का बजट

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर – सुधरेगी पूर्वी काली नदी की सेहत, केंद्र सरकार ने पारित किया 682 करोड़ का बजट

काली नदी के जीर्णोद्धार के लिए कुछ विकास कार्यों को पहले ही मंजूरी मिल चुकी है. इसके अलावा अंतवाड़ा में एक झील का निर्माण होगा. उद्गम स्थल प......

रमन कांत – प्रकृति की सेवा के लिए संकल्पित एक जाना-माना नाम

रमन कांत – प्रकृति की सेवा के लिए संकल्पित एक जाना-माना नाम

पर्यावरण संरक्षण की दिशा में कृत संकल्पित रमन कांत त्यागी जी एक ऐसी युवा शक्ति का नाम है, जिन्होंने अपना समस्त जीवन प्रकृति की सेवा में ही ल......

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - नकारने से और नासूर बन जाएगी मौसम परिवर्तन की समस्या

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - नकारने से और नासूर बन जाएगी मौसम परिवर्तन की समस्या

24वां कन्वेंशन ऑफ द पार्टीज अर्थात कोप-24 के माध्यम से आगामी 2 से 14 दिसम्बर 2018 तक पोलैण्ड के शहर काटोवाइस में जलवायु परिवर्तन की गंभीर सम......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - लालच की भेंट चढ रहे समाज के आधार.. हमारे जलस्रोत

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - लालच की भेंट चढ रहे समाज के आधार.. हमारे जलस्रोत

गैर-सरकारी संगठन नीर फाउंडेशन द्वारा मेरठ जनपद के परीक्षितगढ़ ब्लॉक के प्राकृतिक जल स्रोतों व अन्य जल संसाधनों पर एक रिपोर्ट तैयार की गई है। ......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - नदी सेवा : काली नदी की सफाई में श्रमदान हेतु आप सादर आमंत्रित हैं

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - नदी सेवा : काली नदी की सफाई में श्रमदान हेतु आप सादर आमंत्रित हैं Event

काली नदी सफाई हेतु जुटेंगे ग्रामीण - दो अक्टूबर से प्रारम्भ होगा सफाई कार्यनीर फाउंडेशन पिछले करीब एक दशक से गंगा की प्रमुख सहायक नदी काली प......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - उत्तर प्रदेश की प्रस्तावित नदी नीति : मेरठ घोषणापत्र

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - उत्तर प्रदेश की प्रस्तावित नदी नीति : मेरठ घोषणापत्र

उत्तर प्रदेश की अधिकतर नदियां अब नाला बन गई हैं। बाढ़-सुखाड़ ने इन्हें मार दिया है, शहरीकरण ने इनकी आस्था एवं पर्यावरण रक्षा वाला व्यवहार और स......