मेरठ- राष्ट्रीय नदी गंगा की प्रमुख सहायक नदी काली पूर्वी के उद्धार के लिए नीर फाउंडेशन की ओर से किए गए प्रयासों से अब उम्मीद जगी है। एक ओर जहां पूर्वी को नमामि गंगे में शामिल कर लिया गया है, वहीं इसके लिए सिंचाई विभाग ने भी एक योजना तैयार की है। नहर का पानी काली नदी पूर्वी में छोड़कर इसे पुनर्जीवित किया जाएगा। इसके लिए रविवार को नीर फाउंडेशन की टीम ने छिलौरा गांव के निकट नदी का हाल देखा, जहां दौराला गन्ना मिल का पानी काली नदी पूर्वी में गिर रहा था।

            नीर फाउंडेशन के निदेशक रमन कांत त्यागी ने बताया कि तत्कालीन कमिश्नर मृत्युंजय कुमार नारायण के निर्देश पर तत्कालीन डीएम विकास गोठलवाल ने काली नदी पूर्वी के लिए एक समिति का गठन किया था।  समिति को प्रदूषण, तालाब, पानी की कमी, स्वास्थ्य व कृषि जैसै विषयों को शामिल करके एक विस्तृत रिपोर्ट तैयार करनी थी। साथ ही यह भी बताना था कि काली नदी के सुधार के लिए क्या किया जाए। समिति की चार बैठकों के दौरान काली नदी पूर्वी का एक विजन डाक्यूमेंट भी तैयार किया गया था जो कि सिंचाई विभाग के पास मौजूद है। उत्तर प्रदेश सिंचाई विभाग ने काली नदी में पानी की मात्रा बढ़ाने को एक प्रपोजल तैयार किया था। इस प्रपोजल में मेरठ खंड गंगानहर के कार्यक्षेत्र के नियंत्रणाधीन माइनर अंतवाडा से 105 क्यूसेक पानी छोड़ना प्रस्तावित है। परियोजना की कुल लागत करीब 22 करोड़ है। यह परियोजना मुख्य अभियंता गंगा सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग ने सरकार को संतुति करके भेजा जा चुका है।

नीर फाउंडेशन की टीम ने शुरू किया कार्य

नीर फाउंडेशन ने अपना ग्राउंड वर्क प्रारम्भ कर दिया है। इसके तहत अंतवाडा और खतौली में नीर फाउंडेशन की टीम दौरा कर चुकी है। नहर से इस नदी के उद्गम तक पानी आने से तथा उस स्थान पर बड़ा तालाब बनाने से जहां नदी बहना प्रारम्भ करेगी। इसके प्रदूषण में भी कमी आएगी। धीरे- धीरे भूजल की गुणवत्ता में सुधार होगा, जिससे नदी के निकट बसे गांवों को भी राहत मिलेगी।

कन्नौज में जाकर गंगा में मिलती है काली पूर्वी

काली नदी पूर्वी मुजफ्फरनगर जनपद के अंतवाड़ गांव से निकलकर मेरठ, हापुड़, बुलंदशहर, अलीगढ़, कासगंज, एटा, फरूर्खाबाद व अंत में कन्नौज में जाकर गंगा में मिल जाती है। इसकी कुल लम्बाई 598 किलोमीटर है तथा इसके दोनों किनारों पर करीब 1200 गांव शहर व कस्बे बसे हुए हैं। इस नदी में उद्योगों, शहरों व कस्बों का तरल गैर- शोधित कचरा जाकर मिलता है।  

Related Pictures

कमेंट या फीडबैक छोड़ें

Must Read.

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - मोरकुक्का गाँव में स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने हेतु वाटर फ़िल्टर व आर.ओ का वितरण

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - मोरकुक्का गाँव में स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने हेतु वाटर फ़िल्टर व आर.ओ का वितरण Updates

नीर फाउंडेशन विगत कई वर्षों से काली नदी पूर्वी को निर्मल व स्वच्छ बनाने की दिशा में कार्य कर रही है. नदी के प्रदूषित जल द्वारा गांव में घुल ......

ईस्ट काली रिवर वॉटरकीपर - मोरकुक्का ग्राम को प्रदूषित जल से मुक्ति दिलाने हेतु नीर फाउंडेशन की सार्थक पहल

ईस्ट काली रिवर वॉटरकीपर - मोरकुक्का ग्राम को प्रदूषित जल से मुक्ति दिलाने हेतु नीर फाउंडेशन की सार्थक पहल Event

काली नदी पूर्वी के कारण आस पास के गांवों में घुल रहे प्रदूषण के जहर से मुक्ति दिलाने में नीर फाउंडेशन लंबे समय से प्रयासरत है. इसी कड़ी में 2......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर – सुधरेगी पूर्वी काली नदी की सेहत, केंद्र सरकार ने पारित किया 682 करोड़ का बजट

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर – सुधरेगी पूर्वी काली नदी की सेहत, केंद्र सरकार ने पारित किया 682 करोड़ का बजट Updates

काली नदी के जीर्णोद्धार के लिए कुछ विकास कार्यों को पहले ही मंजूरी मिल चुकी है. इसके अलावा अंतवाड़ा में एक झील का निर्माण होगा. उद्गम स्थल प......

रमन कांत – प्रकृति की सेवा के लिए संकल्पित एक जाना-माना नाम

रमन कांत – प्रकृति की सेवा के लिए संकल्पित एक जाना-माना नाम Updates

पर्यावरण संरक्षण की दिशा में कृत संकल्पित रमन कांत त्यागी जी एक ऐसी युवा शक्ति का नाम है, जिन्होंने अपना समस्त जीवन प्रकृति की सेवा में ही ल......

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - नकारने से और नासूर बन जाएगी मौसम परिवर्तन की समस्या

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - नकारने से और नासूर बन जाएगी मौसम परिवर्तन की समस्या Updates

24वां कन्वेंशन ऑफ द पार्टीज अर्थात कोप-24 के माध्यम से आगामी 2 से 14 दिसम्बर 2018 तक पोलैण्ड के शहर काटोवाइस में जलवायु परिवर्तन की गंभीर सम......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - लालच की भेंट चढ रहे समाज के आधार.. हमारे जलस्रोत

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - लालच की भेंट चढ रहे समाज के आधार.. हमारे जलस्रोत Updates

गैर-सरकारी संगठन नीर फाउंडेशन द्वारा मेरठ जनपद के परीक्षितगढ़ ब्लॉक के प्राकृतिक जल स्रोतों व अन्य जल संसाधनों पर एक रिपोर्ट तैयार की गई है। ......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - नदी सेवा : काली नदी की सफाई में श्रमदान हेतु आप सादर आमंत्रित हैं

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - नदी सेवा : काली नदी की सफाई में श्रमदान हेतु आप सादर आमंत्रित हैं Event

काली नदी सफाई हेतु जुटेंगे ग्रामीण - दो अक्टूबर से प्रारम्भ होगा सफाई कार्यनीर फाउंडेशन पिछले करीब एक दशक से गंगा की प्रमुख सहायक नदी काली प......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - उत्तर प्रदेश की प्रस्तावित नदी नीति : मेरठ घोषणापत्र

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - उत्तर प्रदेश की प्रस्तावित नदी नीति : मेरठ घोषणापत्र Updates

उत्तर प्रदेश की अधिकतर नदियां अब नाला बन गई हैं। बाढ़-सुखाड़ ने इन्हें मार दिया है, शहरीकरण ने इनकी आस्था एवं पर्यावरण रक्षा वाला व्यवहार और स......