अब अविरल होकर बहेगी काली नदी 

 

नीर फाउंडेशन द्वारा पिछले एक दशक से काली नदी के उद्गम को पुनर्जीवित करने के प्रयास किए जा रहे थे। इसके लिए स्थानीय प्रशासन से लेकर उत्तर प्रदेश सरकार व केंद्र सरकार की ओर से लगातार कोशिशें जारी थी। काली नदी पूर्वी के उद्गम स्थल मुजफ्फरनगर जनपद अंतवाड़ा गांव में अब उद्गम स्थल को पुनर्जीवित करने का कार्य प्रारम्भ कर दिया गया है। 

नीर फाउंडेशन के निदेशक रमनकांत त्यागी ने बताया कि मुजफ्फरनगर जनपद के जिलाधिकारी को पत्र के माध्यम से व उनसे मिलकर काली नदी के महत्व, उसके उद्गम तथा उसकी सम्पूर्ण स्थिति के संबंध में जानकारी दी गई थी। उनकी तरफ से उद्गम स्थल पर झील का निर्माण करने तथा उसकी सफाई आदि के कार्य के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे थे। आज हमारे आग्रह पर अंतवाड़ा गांव में ग्रामीणों के साथ बैठकर बात की गई तथा आज ही उद्गम पर झील बनाने का कार्य प्रारम्भ कर दिया गया। कार्य का प्रारम्भ जिलाधिकारी मुजफ्फरनगर श्री राजीव शर्मा द्वारा किया गया, साथ ही मुख्य विकास अधिकारी, जिला विकास अधिकारी, ब्लाॅक प्रमुख, तहसीलदार, दस गांवों के प्रधान सहित करीब 500 लोग मौजूद रहे।  

    

अब अविरल होकर बहेगी काली नदी  नीर फाउंडेशन द्वारा पिछले एक दशक
से काली

यह कार्य पूरी तरह से समाज के सहयोग से होगा। आज ही नदी पुनर्जीवन के लिए वहां मौजूद लोगों ने अपना-अपना योगदान देने की घोषणा की। इसमें जिलाधिकारी व सीडीओ इक्यावन-इक्यावन हजार रूपयों का सहयोग करेंगे। इसी प्रकार आज सभी ने वहां अपने योगदान की घोषणा की, जिससे तकरीबन पांच लाख रूपये एकत्र हुए। कुछ लोगों ने जेसीबी मशीन उपलब्ध कराने की बात रखी। 

 

गंगा नदी को होगा लाभ

 

जिलाधिकारी द्वारा नीर फाउंडेशन के आग्रह पर काली नदी के उद्गम की भूमि का चिन्हांकन जून माह में ही करा दिया गया था तथा उस पर ट्रैक्टर चलवा दिया था, इसके अतिरिक्त जिन किसानों ने नदी की भूमि कब्जाई हुई थी, उनको नोटिस भेज दिए गए थे। उद्गम स्थल पर नदी की करीब 160 बीघा भूमि है, जो कि मुजफ्फरनगर जनपद की खतौली तहसील के अंतवाड़ा गांव में स्थित है। यहां इस नदी को नागिन के नाम से भी जाना जाता है। यह गंगा की प्रमुख सहायक नदियों में से एक है, जो कि मुजफ्फरनगर से निकलकर, मेरठ, हापुड़, बुलंदशहर, अलीगढ़, एटा, फरूर्खाबाद, कासगंज व कन्नौज में जाकर गंगा नदी में समाहित हो जाती है। इसकी कुल लम्बाई करीब 500 किलोमीटर है। गौरतलब है कि नीर फाउंडेशन के अध्ययन के आधार पर ही इस नदी को भारत सरकार द्वारा नमामि गंगे योजना में शामिल किया गया था। काली नदी अंतवाड़ा गांव से लेकर मेरठ जनपद की सीमा तक करीब 14 किलोमीटर तक बहती है तथा इसके दोनों किनारों पर दस गांव बसे हुए हैं।   

 

अंतवाड़ा गांव को पर्यटन की दृष्टि से किया जाएगा विकसित

 

गौरतलब है कि नीर फाउंडेशन की पहल पर इस झील में पानी लाने के लिए सिंचाई विभाग ने भी अपनी सहमति दे दी है। इसके लिए सिंचाई विभाग द्वारा एक प्रपोजल भी तैयार किया जा चुका है। इस प्रपोजल को उत्तर प्रदेश सरकार व केंद्र सरकार को नीर फाउंडेशन द्वारा पहले ही भेजा जा चुका है। काली नदी पूर्वी की अविरलता से अंतवाडा ग्राम को पर्यटन की दृष्टि से विकसित किये जाने में सहायता मिलेगी, गांव का सौन्दर्यकरण भी किया जाएगा.

अब अविरल होकर बहेगी काली नदी  नीर फाउंडेशन द्वारा पिछले एक दशक
से काली

रमन त्यागी ने बताया कि वह दिन अब दूर नहीं जब हिण्डन की प्रमुख सहायक नदी काली पूर्वी अपने उद्गम स्थल से साथ स्वच्छ बहने लगेगी। काली नदी पूर्वी के उद्गम स्थल पर झील बनाने तथा उसके मुख्य मार्ग को पुनर्जीवित करने का कार्य करीब एक माह में पूर्ण कर लिया जाएगा। झील किनारे वृक्षारोपण कराकर यहां नदी उद्गम को स्थापित करने वाला पत्थर लगाया जाएगा। 

 

सिंचाई विभाग द्वारा किया गया निरीक्षण 

 

मंगलवार को नीर फाउंडेशन और सिंचाई विभाग की टीम के द्वारा खतौली में उदगम स्थल पर चल रहे झील बनाने के कार्य को देखा गया। इसके अतिरिक्त झील तक पानी लाने के लिए सिंचाई विभाग की टीम द्वारा पड़ताल भी की गयी। रमन त्यागी ने बताया कि नीर फाउंडेशन की पहल पर इस झील में पानी लाने के लिए सिंचाई विभाग अपनी सहमति दे चुका है। इसके लिए सिंचाई विभाग की ओर से एक प्रपोजल तैयार करके उत्तर प्रदेश सरकार और केंद्र सरकार भेजा जा चुका है। मंगलवार को यहां पर सिंचाई विभाग के अधिकारियों की टीम ने झील तक पानी पहुँचाने के तरीकों के लिए निरीक्षण किया। रमन त्यागी का कहना है कि हिंडन की प्रमुख सहायक नदी काली पूर्वी भी अब अपने उद्गम स्थल से निर्मल होकर बहने लगेगी।

अब अविरल होकर बहेगी काली नदी  नीर फाउंडेशन द्वारा पिछले एक दशक
से काली

(रमन त्यागी)

नीर फाउंडेशन

9411676951

 

Related Pictures

कमेंट या फीडबैक छोड़ें

Must Read.

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - मोरकुक्का गाँव में स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने हेतु वाटर फ़िल्टर व आर.ओ का वितरण

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - मोरकुक्का गाँव में स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने हेतु वाटर फ़िल्टर व आर.ओ का वितरण Updates

नीर फाउंडेशन विगत कई वर्षों से काली नदी पूर्वी को निर्मल व स्वच्छ बनाने की दिशा में कार्य कर रही है. नदी के प्रदूषित जल द्वारा गांव में घुल ......

ईस्ट काली रिवर वॉटरकीपर - मोरकुक्का ग्राम को प्रदूषित जल से मुक्ति दिलाने हेतु नीर फाउंडेशन की सार्थक पहल

ईस्ट काली रिवर वॉटरकीपर - मोरकुक्का ग्राम को प्रदूषित जल से मुक्ति दिलाने हेतु नीर फाउंडेशन की सार्थक पहल Event

काली नदी पूर्वी के कारण आस पास के गांवों में घुल रहे प्रदूषण के जहर से मुक्ति दिलाने में नीर फाउंडेशन लंबे समय से प्रयासरत है. इसी कड़ी में 2......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर – सुधरेगी पूर्वी काली नदी की सेहत, केंद्र सरकार ने पारित किया 682 करोड़ का बजट

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर – सुधरेगी पूर्वी काली नदी की सेहत, केंद्र सरकार ने पारित किया 682 करोड़ का बजट Updates

काली नदी के जीर्णोद्धार के लिए कुछ विकास कार्यों को पहले ही मंजूरी मिल चुकी है. इसके अलावा अंतवाड़ा में एक झील का निर्माण होगा. उद्गम स्थल प......

रमन कांत – प्रकृति की सेवा के लिए संकल्पित एक जाना-माना नाम

रमन कांत – प्रकृति की सेवा के लिए संकल्पित एक जाना-माना नाम Updates

पर्यावरण संरक्षण की दिशा में कृत संकल्पित रमन कांत त्यागी जी एक ऐसी युवा शक्ति का नाम है, जिन्होंने अपना समस्त जीवन प्रकृति की सेवा में ही ल......

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - नकारने से और नासूर बन जाएगी मौसम परिवर्तन की समस्या

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - नकारने से और नासूर बन जाएगी मौसम परिवर्तन की समस्या Updates

24वां कन्वेंशन ऑफ द पार्टीज अर्थात कोप-24 के माध्यम से आगामी 2 से 14 दिसम्बर 2018 तक पोलैण्ड के शहर काटोवाइस में जलवायु परिवर्तन की गंभीर सम......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - लालच की भेंट चढ रहे समाज के आधार.. हमारे जलस्रोत

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - लालच की भेंट चढ रहे समाज के आधार.. हमारे जलस्रोत Updates

गैर-सरकारी संगठन नीर फाउंडेशन द्वारा मेरठ जनपद के परीक्षितगढ़ ब्लॉक के प्राकृतिक जल स्रोतों व अन्य जल संसाधनों पर एक रिपोर्ट तैयार की गई है। ......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - नदी सेवा : काली नदी की सफाई में श्रमदान हेतु आप सादर आमंत्रित हैं

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - नदी सेवा : काली नदी की सफाई में श्रमदान हेतु आप सादर आमंत्रित हैं Event

काली नदी सफाई हेतु जुटेंगे ग्रामीण - दो अक्टूबर से प्रारम्भ होगा सफाई कार्यनीर फाउंडेशन पिछले करीब एक दशक से गंगा की प्रमुख सहायक नदी काली प......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - उत्तर प्रदेश की प्रस्तावित नदी नीति : मेरठ घोषणापत्र

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - उत्तर प्रदेश की प्रस्तावित नदी नीति : मेरठ घोषणापत्र Updates

उत्तर प्रदेश की अधिकतर नदियां अब नाला बन गई हैं। बाढ़-सुखाड़ ने इन्हें मार दिया है, शहरीकरण ने इनकी आस्था एवं पर्यावरण रक्षा वाला व्यवहार और स......