शहरों का बेहतरतीब विकास रोकने के लिए रोजगार व मूलभूत सुविधाओं को दूर-दराज छोटे शहरों, कस्बों व गांवों में भी पहुंचाना होगा. गांव में आजीविका के साधन होंगे तो कोई शहर क्यों आएगा?

आजादी के 70 साल बाद भी भारत एक ऐसा शहर विकसित नहीं कर पाया है जो कि जीवन जीने के अंतरराष्ट्रीय मानकों या भारतीय मूल्यों पर खरा उतरता हो. भारत सरकार द्वारा शहरों के आधारभूत ढ़ाचे को विकसित करने के लिए प्रारंभ की गई. स्मार्ट सिटी योजना के प्रथम चरण में तय प्रक्रिया के तहत चयनित किए गए सौ शहरों में अभी बहुत बड़े बदलाव देखने को नहीं मिल रहे हैं. स्मार्ट सिटी योजना में बिजली, पानी, स्वच्छता, कचरा प्रबंधन, पब्लिक परिवहन, पर्यावरणीय विकास, सुरक्षा, शिक्षा व स्वास्थ्य जैसे वही मानक तय किए गए हैं जिनके आधार पर रहने लायक शहरों की अंतरराष्ट्रीय रैकिंग तैयार की जाती है. भारत के शहरों में कुल आबादी की 31 प्रतिशत जनसंख्या रहती है.

2030 तक शहरी आबादी के 40 प्रतिशत होने का अनुमान है. ऐसे में जब अभी बेहतरतीब व्यवस्थाओं से चरमरा रहे शहर संभल नहीं पा रहे हैं तो जनसंख्या का अधिक बोझ आखिर कैसे सह पाएंगे? यहां यह विषय भी विचारणीय है कि जब शहरों पर क्षमता से अधिक जनसंख्या का दबाव बढ़ेगा तो वहां की आधारभूत आवश्यकताएं कैसे पूरी हो पाएंगी? क्योंकि दिल्ली के पास वर्तमान में अपनी आबादी की प्यास बुझाने के लिए भी पानी मौजूद नहीं है. मायानगरी मुंबई जैसा शहर प्रतिवर्ष बरसात में थम सा जाता है क्योंकि वहां सीवेज के सही निस्तारण की व्यवस्था ही नहीं है. दिल्ली जहां सर्दियों के मौसम में हांफने लगती है. यहां सांस लेना भी दूभर रहता है, लेकिन जनसंख्या का दबाव यहां बढ़ता जा रहा है. देश के चार बड़े शहरों दिल्ली, मुंबई, चेन्नई व बेंगलुरु की करीब 35 प्रतिशत आबादी झुग्गियों में रहने को मजबूर हैं.

दिल्ली व राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र को प्रदूषण के मामले में राहत देने के लिए माननीय सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित एनवायरमेंट पॉल्यूशन (प्रिवेंशन व कंट्रोल) अथॉरिटी के भरपूर प्रयासों के बावजूद बेहतर नतीजे देखने को नहीं मिल रहे हैं. भारत को गांव और गांधी का देश का जाता है. गांवों से बेहतर जीवन की तलाश में युवा वर्ग तेजी से शहरों की ओर अपना रुख कर रहा है. गांव लगातार खाली हो रहे हैं और शहरों पर दबाव बढ़ रहा है. ऐसे में अगर शहरों को स्वच्छ व सुरक्षित जीवन जीने के हिसाब से नहीं विकसित किया गया तो भारत की बड़ी आबादी बीमारी व बेकारी की चपेट में होगी. इकोनॉमिक इंटेलीजेंस यूनिट की रहने लायक शहरों की ताजा रिपोर्ट में 100 में से 99.1 अंक प्राप्त करके पहले स्थान पर पहुंच विएना शहर से सीख लेकर हमें अपने शहरों को विकसित करना होगा. उच्च दस शहरों की सूची में ऑस्ट्रेलिया के तीन मेलबर्न, सिडनी व एडिलेड हैं. सिडनी शहर अपने सस्टेनेबल सिडनी-2030 कार्यक्रम के चलते पांचवे स्थान से छलांग लगाकर तीसरे स्थान पर पहुंचा है. भारत को स्मार्ट सिटी योजना में भी इसका अनुसरण करना चाहिए.

हम दो प्रकार से अपना जीवन जी सकते हैं. एक तो गांधी दर्शन से और दूसरा विकसित देशों के साथ कंधा मिलाकर शहरों में गांधी दर्शन के सभी मानक पूर्ण करना संभव ही नहीं है लेकिन अपने शहरों को हम विकसित देशों के शहरों की कतार में लाकर नागरिकों को बेहतर जीवन जीने का अवसर दे सकते हैं. इसके लिए हमें समयबद्ध तरीके से कार्य करने की आवश्यकता है तथा व्यवस्थाओं में आमूलचूल परिवर्तन भी जरूरी है.

रमन कांत त्यागी, निदेशक
नेचुरल एनवायरमेंट एजुकेशन एंड रिसर्च फांउडेंशन (नीर)

Related Pictures

क्या यह आपके लिए प्रासंगिक है? मेसेज छोड़ें.

Must Read.

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर- आबादी के बोझ से चरमरा रही हैं शहर की व्यवस्थाएं

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर- आबादी के बोझ से चरमरा रही हैं शहर की व्यवस्थाएं

शहरों का बेहतरतीब विकास रोकने के लिए रोजगार व मूलभूत सुविधाओं को दूर-दराज छोटे शहरों, कस्बों व गांवों में भी पहुंचाना होगा. गांव में आजीविका......

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर- उत्तर प्रदेश ग्राउंड वाटर मैनेजमेंट एंड रेगुलेशन बिल 2019 पारित, भूजल का संरक्षण रहेगा मुख्य उद्देश्य

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर- उत्तर प्रदेश ग्राउंड वाटर मैनेजमेंट एंड रेगुलेशन बिल 2019 पारित, भूजल का संरक्षण रहेगा मुख्य उद्देश्य

गंदगी का दंश झेलती नदियों के लिए बेहतर प्रयास होना आवश्यक है. इसके चलते नीर फॉउंडेशन द्वारा जिस बिल की पिछले कई वर्षों से मांग की जा रही थी.......

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - मोरकुक्का गाँव में स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने हेतु वाटर फ़िल्टर व आर.ओ का वितरण

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - मोरकुक्का गाँव में स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने हेतु वाटर फ़िल्टर व आर.ओ का वितरण

नीर फाउंडेशन विगत कई वर्षों से काली नदी पूर्वी को निर्मल व स्वच्छ बनाने की दिशा में कार्य कर रही है. नदी के प्रदूषित जल द्वारा गांव में घुल ......

ईस्ट काली रिवर वॉटरकीपर - मोरकुक्का ग्राम को प्रदूषित जल से मुक्ति दिलाने हेतु नीर फाउंडेशन की सार्थक पहल

ईस्ट काली रिवर वॉटरकीपर - मोरकुक्का ग्राम को प्रदूषित जल से मुक्ति दिलाने हेतु नीर फाउंडेशन की सार्थक पहल Event

काली नदी पूर्वी के कारण आस पास के गांवों में घुल रहे प्रदूषण के जहर से मुक्ति दिलाने में नीर फाउंडेशन लंबे समय से प्रयासरत है. इसी कड़ी में 2......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर – सुधरेगी पूर्वी काली नदी की सेहत, केंद्र सरकार ने पारित किया 682 करोड़ का बजट

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर – सुधरेगी पूर्वी काली नदी की सेहत, केंद्र सरकार ने पारित किया 682 करोड़ का बजट

काली नदी के जीर्णोद्धार के लिए कुछ विकास कार्यों को पहले ही मंजूरी मिल चुकी है. इसके अलावा अंतवाड़ा में एक झील का निर्माण होगा. उद्गम स्थल प......

रमन कांत – प्रकृति की सेवा के लिए संकल्पित एक जाना-माना नाम

रमन कांत – प्रकृति की सेवा के लिए संकल्पित एक जाना-माना नाम

पर्यावरण संरक्षण की दिशा में कृत संकल्पित रमन कांत त्यागी जी एक ऐसी युवा शक्ति का नाम है, जिन्होंने अपना समस्त जीवन प्रकृति की सेवा में ही ल......

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - नकारने से और नासूर बन जाएगी मौसम परिवर्तन की समस्या

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - नकारने से और नासूर बन जाएगी मौसम परिवर्तन की समस्या

24वां कन्वेंशन ऑफ द पार्टीज अर्थात कोप-24 के माध्यम से आगामी 2 से 14 दिसम्बर 2018 तक पोलैण्ड के शहर काटोवाइस में जलवायु परिवर्तन की गंभीर सम......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - लालच की भेंट चढ रहे समाज के आधार.. हमारे जलस्रोत

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - लालच की भेंट चढ रहे समाज के आधार.. हमारे जलस्रोत

गैर-सरकारी संगठन नीर फाउंडेशन द्वारा मेरठ जनपद के परीक्षितगढ़ ब्लॉक के प्राकृतिक जल स्रोतों व अन्य जल संसाधनों पर एक रिपोर्ट तैयार की गई है। ......