काली नदी के जीर्णोद्धार के लिए कुछ विकास कार्यों को पहले ही मंजूरी मिल चुकी है. इसके अलावा अंतवाड़ा में एक झील का निर्माण होगा. उद्गम स्थल पर खतौली केनाल से पानी छोड़ने की रूपरेखा पर कार्य चल रहा है. पूर्वी काली नदी संरक्षण को मनरेगा में भी शामिल किये जाने का प्रयास चल रहा है.

-    (रमन कांत त्यागी, रिवर एक्टिविस्ट एवं निदेशक..नीर फाउंडेशन)

वर्षों से प्रदूषण का दंश झेल रही पूर्वी काली नदी की बिगडती हालत को संवारने के लिए हाल ही में जल संसाधन, नदी विकास एवं गंगापुनरुद्धार मंत्रालय ने कायाकल्प के लिए करीब 600 करोड़ का बजट निर्धारित किया है. नदी को नमामि गंगे अभियान में शामिल करते हुए डीपीआर तैयार किया गया है, जिसके अंतर्गत प्रतिदिन नदी में शुद्ध 200 मिलियन जल प्रवाहित किया जाएगा. जिससे नदी फिर जीवंत हो सकेगी.

हाल ही में नेशनल मिशन फॉर क्लीन गंगा (नमामि गंगे) की उच्चस्तरीय बैठक के अंतर्गत मुख्य अभियंता जीएस श्रीवास्तव, एमई केपी सिंह, इंजीनियर बलवीर सिंह, प्रोजेक्ट मैनेजर रमेश चंद्र राय सहित अन्य शीर्ष अधिकारियों की सहभागीदारी में काली नदी को अविरल बनाने के प्रोजेक्ट पर प्रेजेंटेशन दी गयी. टीम के द्वारा लगभग 741 करोड़ 73 लाख की धनराशि प्रोजेक्ट के अंतर्गत रखी गयी. शहरों को नालों से भी मुक्ति दिलाई जाएगी, जिसमें प्राथमिक तौर पर नालों को सीवरलाइन से जोड़ा जाएगा, जिनके माध्यम से गैर-शोधित पानी सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट्स में जाएगा और उपचारण के बाद ही नदी में छोड़ा जाएगा.

मेरठ के तीन प्रमुख नालों ओडियन, आबू नाला-1 एवं आबू नाला-2 से लगभग 200 मिलियन लीटर अवजल काली नदी को प्रदूषित कर रहा है, फिलवक्त शहर में एकमात्र एसटीपी जाग्रति विहार एक्सटेंशन में स्थित है, जो 72 मिलियन लीटर प्रतिदिन शोधन के अनुसार बनाया गया है. हालाँकि यह अपनी क्षमता के अनुसार कार्य नहीं कर रहा है, जिसके चलते काली नदी में गैर-शोधित अवजल निरंतर प्रवाहित हो रहा है.

अंतवाडा गांव से उद्गमित होती है काली नदी  

काली नदी (पूर्व) का उद्गम मुजफ्फरनगर जिले की जानसठ तहसील के दौराला ब्लॉक के उत्तर में स्थित अंतवाड़ा गाँव से हुआ माना जाता है. हालाँकि कुछ स्थानीय लोगों का मानना ​​है कि नदी की उत्पत्ति अंतवाड़ा गाँव के उत्तर में ऊँचाई पर स्थित चित्तोडा गाँव से होती है, जहां से नदी का उद्गम एक दुबली जलधारा के रूप में 1 किमी की दूरी पर माना गया है, परन्तु इसमें कभी पानी नहीं बहा है.

अध्ययन के समय भी यह जलधारा शुष्क पाई गयी थी. इस कारण अधिकांश स्थानीय लोग नदी के स्रोत और जन्मस्थान के रूप में अंतवाड़ा गांव को ही मानते हैं. यह नदी अपने उद्गमक्षेत्र से लगभग तीन सौ किमी की दूरी तय करती हुए गंगा में समाहित होती है. इसके प्रवाह क्षेत्र में मुजफ्फरनगर, मेरठ, गाजियाबाद, बुलंदशहर, अलीगढ़, एटा, फरूखाबाद और कन्नौज प्रमुखत: आते हैं और कन्नौज के पास गंगा नदी में यह विलीन हो जाती है.

काली नदी के तट पर, लगभग 1200 गाँव, कई बड़े शहर और कस्बे हैं. जिनकी अधिकांश आबादी मुख्य रूप से कृषि और पशु पालन के लिए नदी के पानी का उपयोग करती है. अपने विशेष ज़िगज़ैग तरीके से बहाव के चलते इसे नागिन भी कहा जाता है और कन्नौज एवं बुलंदशहर के पास के इलाके के स्थानीय लोग इसे कालिंदी के नाम से भी जानते हैं.

औद्योगिक नालों के कारण रहा है काला इतिहास    

1. मुजफ्फरनगर में काली नदी -

मुजफ्फरनगर जिले की जानसड तहसील के अंतवाड़ा गांव में वन्य क्षेत्र से एक छोटी सी धारा के रूप में काली नदी उद्गमित होती है और लगभग 3 किलोमीटर तक स्वच्छ जल के रूप में बहती है. खतौली के रास्ते पर मीरापुर रोड स्थित खतौली चीनी मिल के काले, बदबूदार पानी को काली में प्रवेश का मार्ग मिल जाता है.

2. मेरठ में सर्वाधिक प्रदूषित काली -

प्रदूषित अवजल के साथ 10 किलोमीटर की यात्रा के बाद, यह मेरठ जिले में प्रवेश करती है. यह मेरठ जिले में नागली आश्रम के पास से गुजरती है. यहां पानी काफी गन्दा है और आगे चलने पर सूख भी जाता है.

सूखी नदी दौराला-लावाड़ रोड की ओर 10-15 कि.मी. तक पहुंच जाती है, जहां दौराला चीनी मिल, दौराला डिस्टलरी और केमिकल का नाला सूखी नदी में बहता है, जिससे सूखी नदी को काला बदबूदार जल प्रवाह मिलता है. पनवाड़ी, धंजू और देडवा गांवों को पार करते हुए, नदी मेरठ-मवाना रोड से आगे बढ़ती है, जहां सैनी, फिटकारी और राफेन पेपर मिलों के नालें नदी में बहते हैं.

मेरठ शहर में आगे बढ़ते हुए, नदी जयभीम नगर कॉलोनी से गुजरती है. जहां शहर के कचरे को ले जाने वाली पीएसी नाला नदी से मिलता है. इस सीवेज में दौराला केमिकल प्लांट और रंग फैक्ट्री के कचरे भी शामिल हैं.

नदी आगे बढ़कर 5 किलोमीटर तक अपशिष्ट की बड़ी मात्रा साथ में ले जाती है,  मवेशियों के शव और मेरठ नगर निगम के बुचडखानों की रक्तरंजित अपशिष्टता भी नदी में गिरा दी जाती है. नदी आध, कुधाला, कौल, भदोली और अटरारा गांवों से गुज़रती है और हापुड जिले में प्रवेश करने से पहले 20 किमी तक बहती है.

3. बुलंदशहर में नगर निगम का अपशिष्ट झेलती है काली -

फिर हापुड-गढ़ रोड से गुज़रने के बाद 30 किलोमीटर के बाद नदी बुलंदशहर जिले में प्रवेश करती है. यहां काली नदी गुलावठी के पास अकबरपुर गांव से प्रवेश करती है. बुलंदशहर में नगर पालिका का कूड़ा-करकट सीधे नदी के हवाले कर दिया जाता है, साथ ही शहरी क्षेत्र का मेडिकल वेस्ट एवं तकरीबन 30,000 किली सीवरेज लगभग 34 नालों के जरिये काली नदी में निस्तारित किया जाता है.

4. अलीगढ में बुचडखानों का नर्क किया जाता है काली के हवाले -

लगभग 50 किमी के बाद नदी अलीगढ़ जिले में प्रवेश करती है, जहां अलीगढ़ डिस्टिलरी और कसाई घरों का नारकीय कचरा नदी में फेंक दिया जाता है. अलीगढ़ से गुजरते समय कुछ स्थानों पर प्रदूषण का स्तर कम हो जाता है. इसके लिए पहला स्थान वह है, जहां नदी में हरदुआगंज भुदांसी से जल छोड़ा जाता है और दूसरा स्थान अलीगढ़ और कन्नौज के बीच, जहां यह पवित्र गंगा में मिलता है. इन स्थानों पर  कोई औद्योगिक अपशिष्ट नदी में नहीं डाला जाता है.  

अलीगढ़ से, यह कासगंज की तरफ बहती है. जिस पुल के नीचे से काली नदी बहती है, वह पुल 18 वीं शताब्दी में बनाया गया था और 200 मीटर लंबा है. कासगंज से, नदी एटा जिले में, वहां से फर्रुखाबाद तक और अंत में कन्नौज जिले में बहती है. कासगंज, फर्रुखाबाद और कन्नौज जिलों में, कोई भी उद्योग काली में अपने कचरे को डंप नहीं करता है और न ही शहर का सीवेज नदी में फेंका जाता है.

एटा के बाद, गुरसाईगंज टाउनशिप का सीवेज काली में डाला जाता है, किन्तु आगे चलकर नदी का पानी साफ़ हो जाता है. शहर के सीवेज को नदी में ले जाने और डंप करने के लिए कन्नौज शहर में उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा एक नाले का निर्माण किया जा रहा है.

नदी से कासगंज और कन्नौज के बीच की दूरी लगभग 150 किमी है. मुजफ्फरनगर से अलीगढ़ के बीच लंबाई की तुलना में नदी की यह लंबाई काफी साफ है, जब काली कन्नौज में गंगा में बहती है, तो गंगा और काली के पानी को अलग करना मुश्किल हो जाता है.

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने गंगा की सहायक नदियों में बढ़ते प्रदूषण के विषय पर अध्ययन करते हुए काली नदी में गिरने वाले 23 प्रमुख नालों की जानकारी एकत्रित की, जिनसे काली नदी निरंतर प्रदूषित हो रही थी.

काली नदी प्रदूषण का किया गया सर्वेक्षण

काली नदी के संरक्षण में अहम योगदान अंकित कर रहे रमन त्यागी जी (निदेशक, नीर फाउंडेशन) के अनुसार डब्ल्यू डब्ल्यू एफ, नई दिल्ली के सहयोग से काली नदी का अप्रैल, 2015 से सम्पूर्ण सर्वेक्षण प्रारम्भ किया जा चुका है. इसके अंतर्गत संस्था द्वारा काली नदी उद्गम स्थल से लेकर गंगा में मिलने तक के दौरान नदी में कहां और किस प्रकार प्रदूषण फैलाया जा रहा है, इसका विस्तृत अध्ययन किया गया. इसके उपरांत नदी के आठ प्रवाह क्षेत्रों से नदी जल और भूजल के सैंपल एकत्रित किये गए, जिनका परीक्षण देहरादून स्थित पीपुल्स साइंस इंस्टिट्यूट की लैब में किया गया.

1. अध्ययन के अंतर्गत पहला नदी जल सैंपल खतौली-जानसठ मार्ग के पास जहां खतौली गन्ना मिल का अपशिष्ट नदी में गिराया जाता है, वहां से लिया गया. साथ ही समीप के अंतवाडा गांव से निजी हैंडपंप से भूजल सैंपल लिया गया.

2. नदी जल का दूसरा नमूना मेरठ जनपद के जलालपुर ग्राम से तथा यहीं के सरकारी हैंडपंप से लिया गया.

3. नेशनल हाईवे, हापुड़ जनपद से लालपुर गांव के पुल से तीसरा नदी जल सैंपल एवं लालपुर गांव के सरकारी हैंडपंप से भूमिगत जल के सैंपल लिए गए.

4. बुलंदशहर- शिकारपुर मार्ग के पास शिकारपुर पुल के नीचे से नदी जल का चौथा सैंपल तथा यही के रामपुर गांव से निजी हैंडपंप से भूजल सैंपल लिया गया.  

5. नदी जल का पांचवा सैंपल अलीगढ़ जनपद से अहमदपुरा गांव के पास से लिया गया तथा ग्राम कौड़ियागंज से निजी हैंडपंप के जल सैंपल लिए गए.

6. कासगंज के नदरई गांव से नदी जल का छठवां एवं इसी ग्राम की कांशीराम कॉलोनी के सरकारी हैंडपंप से भूमि जल का नमूना उठाया गया.

7. फर्रुखाबाद से कन्नौज मार्ग पर स्थित खुदाईगंज ग्राम से काली नदी का सैंपल तथा इसी ग्राम के निजी हैंडपंप से भूमि जल का सातवां सैंपल लिया गया.

8. परीक्षण के लिए अंतिम नदी जल सैंपल कन्नौज-हरदोई मार्ग पर मेहंदीगंज घाट से लिया गया तथा साथ ही गंगागंज गांव के सरकारी हैंडपंप से भूजल परीक्षण के लिए लिया गया.

परीक्षण में पाए गए भारी विषाक्त पदार्थ –

इन सैंपल्स में शोधकर्ताओं को भारी मात्रा में मेटल के साथ ही लेड व घुलनशील ठोस व आयरन मिला. राजीव गांधी कैंसर इंस्टीट्यूट एंड रिसर्च सेंटर के अनुसार, 

“मेटल मानव शरीर के लिए अत्याधिक हानिकारक होता है और यह कैंसर आदि गंभीर रोगों को भी जन्म देता है. ऐसे में ग्राउंडवाटर एवं नदी जल में व्यापक मात्रा में मेटल की उपस्थिति वास्तव में चिन्ता का सबब है.”

रिसर्च में पाए गए भूजल एवं नदी जल के नतीजे इस प्रकार रहे :

1. मुजफ्फरनगर, बुलन्दनगर और अलीगढ़ जिले के पानी में लेड की उपस्थित अत्याधिक मात्रा में देखने को मिली.

2. मुजफ्फरनगर के अंतवाडा गांव के हैंडपंप के पानी में 0.21 मिग्रा प्रति लीटर देखने को मिली, जो कि अनुमत्य सीमा से 21 गुना अधिक है.

3. इसी प्रकार बुलन्दशहर के रामपुरा गांव के हैंडपंप के पानी में लेड की मात्रा 0.35 मिली प्रतिलीटर पायी गई, जो कि अनुमत्य सीमा से 35 गुना अधिक है, वहीं इस गांव के ग्राउंडवाटर में टीडीएस की मात्रा 1760 मिग्रा पाई गयी, जबकि अनुमत्य सीमा 500 मिग्रा है.

4. हापुड़, मेरठ व कन्नौज जिलों के ग्राउंडवाटर में टीडीएस की मात्रा क्रमशः 828, 826 व 824 मिग्रा प्रति लीटर है.

5. निदेशक रमन त्यागी के अनुसार इसी प्रकार कई गांवों के ग्राउंडवाटर में आयरन की मात्रा भी अनुमत्य सीमा से कहीं ज्यादा है. बुलन्दशहर, अलीगढ़, कासगंज और कन्नौज के पांच गांवों के ग्राउंडवाटर में आयरन की मात्रा 0.50, 0.85, 0.54, 0.46, 0.32 मिग्रा प्रतिलीटर पायी गई.

6. वहीँ गांवों के नलों से पेयजल के स्थान अमोनिया, फ्लोराइड, सिल्वर, सलफाइड, लेड व आयरन जैसे हानिकारक तत्वों का प्रवाह होना ग्रामीणों के लिए घातक और जानलेवा बनता जा रहा है.

वास्तव में नदी किनारे बसे ग्रामों के लोग खतरनाक बीमारियों की चपेट में आकर जान गंवा रहे हैं, इन इलाकों में कैंसर, फेफड़ों के रोग, हृदय रोग, किडनी, पेट और विभिन्न संक्रामक रोगों से जूझ रहे हैं. इन भयंकर रोगों के चलते बहुत से ग्रामीण त्रस्त हैं. मुज्जफरनगर जनपद के अंतर्गत  विशेष रूप से रतनपुरी, मोरकुक्का, डाबल, समौली, भनवाड़ा आदि ग्राम अधिक प्रभावित हैं, जहाँ कैंसर जैसे गंभीर रोग के चलते बहुत से ग्रामीणों की मृत्यु हो चुकी है और जन-जीवन, वन्य जीवन इस प्रदूषण से बुरी तरह त्रस्त है.

नीर फाउंडेशन ने काली नदी संरक्षण की दिशा में की पहल

काली नदी संरक्षण की दिशा में पिछले 18-20 वर्षों से निरंतर विभिन्न संस्थाओं, पर्यावरणविदों, सामाजिक कार्यकर्ताओं आदि के द्वारा प्रयास किये जा रहे हैं. 2015 के बाद से ही शोध के बाद संगृहीत किये गए सैंपलों के आधार पर जल में प्रदूषण की पुष्टि होने के उपरांत से नीर फाउंडेशन के निदेशक रमन त्यागी इस विषय पर गंभीरता से कार्य कर रहे हैं.

नदी को लेकर जागरूकता अभियान की पहल करते हुए उन्होंने ग्रामवासियों से बातचीत कर समस्याओं की गहराई को जानने का प्रयास किया तथा पूर्वी काली के संरक्षण को लेकर निरंतर प्रयास भी किये. साथ ही वाटर कलेक्टिव संस्था के तत्वावधान में डाबल और मोरकुका ग्राम में वाटर फ़िल्टर भी ग्रामवासियों के मध्य बांटे गए थे. नीर फाउंडेशन द्वारा काली नदी प्रदूषण पर डाक्यूमेंट्री बनाकर डब्लूएचओ को भी भेजी जा चुकी है.

हाल ही में हुए “काली नदी सेवा” अभियान में भी जनभागीदारी देखी गयी थी और यदि इस तरह के अभियान प्रशासन और जनता की सहभागीदारी में चले तो अभी भी नदियों की दयनीय अवस्था में सुधार किया जा सकता है. नदी के बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए अब ग्रामवासी इस ओर गंभीर होने लगे हैं, उन्होंने स्थानीय प्रशासन से प्रदूषण को रोकने की मांग करते हुए प्रदूषण फैला रहे कारखानों पर सख्त कार्यवाही करने की भी बात रखी है.

Related Pictures

कमेंट या फीडबैक छोड़ें

Must Read.

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - मोरकुक्का गाँव में स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने हेतु वाटर फ़िल्टर व आर.ओ का वितरण

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - मोरकुक्का गाँव में स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने हेतु वाटर फ़िल्टर व आर.ओ का वितरण Updates

नीर फाउंडेशन विगत कई वर्षों से काली नदी पूर्वी को निर्मल व स्वच्छ बनाने की दिशा में कार्य कर रही है. नदी के प्रदूषित जल द्वारा गांव में घुल ......

ईस्ट काली रिवर वॉटरकीपर - मोरकुक्का ग्राम को प्रदूषित जल से मुक्ति दिलाने हेतु नीर फाउंडेशन की सार्थक पहल

ईस्ट काली रिवर वॉटरकीपर - मोरकुक्का ग्राम को प्रदूषित जल से मुक्ति दिलाने हेतु नीर फाउंडेशन की सार्थक पहल Event

काली नदी पूर्वी के कारण आस पास के गांवों में घुल रहे प्रदूषण के जहर से मुक्ति दिलाने में नीर फाउंडेशन लंबे समय से प्रयासरत है. इसी कड़ी में 2......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर – सुधरेगी पूर्वी काली नदी की सेहत, केंद्र सरकार ने पारित किया 682 करोड़ का बजट

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर – सुधरेगी पूर्वी काली नदी की सेहत, केंद्र सरकार ने पारित किया 682 करोड़ का बजट Updates

काली नदी के जीर्णोद्धार के लिए कुछ विकास कार्यों को पहले ही मंजूरी मिल चुकी है. इसके अलावा अंतवाड़ा में एक झील का निर्माण होगा. उद्गम स्थल प......

रमन कांत – प्रकृति की सेवा के लिए संकल्पित एक जाना-माना नाम

रमन कांत – प्रकृति की सेवा के लिए संकल्पित एक जाना-माना नाम Updates

पर्यावरण संरक्षण की दिशा में कृत संकल्पित रमन कांत त्यागी जी एक ऐसी युवा शक्ति का नाम है, जिन्होंने अपना समस्त जीवन प्रकृति की सेवा में ही ल......

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - नकारने से और नासूर बन जाएगी मौसम परिवर्तन की समस्या

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - नकारने से और नासूर बन जाएगी मौसम परिवर्तन की समस्या Updates

24वां कन्वेंशन ऑफ द पार्टीज अर्थात कोप-24 के माध्यम से आगामी 2 से 14 दिसम्बर 2018 तक पोलैण्ड के शहर काटोवाइस में जलवायु परिवर्तन की गंभीर सम......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - लालच की भेंट चढ रहे समाज के आधार.. हमारे जलस्रोत

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - लालच की भेंट चढ रहे समाज के आधार.. हमारे जलस्रोत Updates

गैर-सरकारी संगठन नीर फाउंडेशन द्वारा मेरठ जनपद के परीक्षितगढ़ ब्लॉक के प्राकृतिक जल स्रोतों व अन्य जल संसाधनों पर एक रिपोर्ट तैयार की गई है। ......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - नदी सेवा : काली नदी की सफाई में श्रमदान हेतु आप सादर आमंत्रित हैं

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - नदी सेवा : काली नदी की सफाई में श्रमदान हेतु आप सादर आमंत्रित हैं Event

काली नदी सफाई हेतु जुटेंगे ग्रामीण - दो अक्टूबर से प्रारम्भ होगा सफाई कार्यनीर फाउंडेशन पिछले करीब एक दशक से गंगा की प्रमुख सहायक नदी काली प......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - उत्तर प्रदेश की प्रस्तावित नदी नीति : मेरठ घोषणापत्र

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - उत्तर प्रदेश की प्रस्तावित नदी नीति : मेरठ घोषणापत्र Updates

उत्तर प्रदेश की अधिकतर नदियां अब नाला बन गई हैं। बाढ़-सुखाड़ ने इन्हें मार दिया है, शहरीकरण ने इनकी आस्था एवं पर्यावरण रक्षा वाला व्यवहार और स......