उत्तर प्रदेश में नदियों की बदहाली को देखते हुए नीर फाउंडेशन द्वारा नदियों की राज्य नीति बनाने की पहल की गई है। इसके लिए संगठन द्वारा पहले ही देशभर के विषय विशेषज्ञों के साथ बैठकर उत्तर प्रदेश की नदी नीति का प्रारूप तैयार किया जा चुका है, जिसको कि मेरठ घोषणा पत्र का नाम दिया गया है। नदी नीति का यह प्रारूप कल उत्तर प्रदेश के सिंचाई मंत्री श्री धर्मपाल सिंह को सौंप दिया गया है। श्री धर्मपाल सिंह ने इसके लिए सकारात्मक पहल करने के लिए कहा है।

नीर फाउंडेशन पिछले दस वर्षों से नदियों की बेहतरी के लिए कार्य कर रहा है। इसमें हिण्डन, कृष्णी, काली पश्चिमी, काली पूर्वी, धमोला, पांवधोई, नागदेई, बूढ़ी गंगा व अन्य छोटी-छोटी नदियां शामिल हैं। नदियों के समक्ष उनमें बढ़ते प्रदूषण, पानी की कमी तथा अतिक्रमण जैसी समस्याएं मुंह बाए खड़ी हैं। इसमें सबसे अधिक प्रभावित छोटी व बरसाती नदियां हुई हैं। बरसाती नदियों में जहां पानी का अभाव हो गया है, वहीं ये नदियों एक गंदा नाला बनकर रह गई हैं। छोट कस्बों/शहरों का घरेलू बहिस्राव तथा उद्योगों का तरल गैर-शोधित कचरा ही इन नदियों में बह रहा है। पानी के अभाव में यह नदियां सिकुड़ भी गई हैं, जिस कारण से इनके बेसिन पर अवैध अतिक्रमण करके इनको और अधिक संकरा बना दिया गया है।

आज से करीब चार-पांच दशक पहले जब ये नदियां बहती थी. उस समय भूजल का स्तर काफी ऊंचा था। बरसात भी अधिक होती थी, यही कारण था कि ये नदियां चौये के पानी (जमीन के नीचे से स्वतः पानी निकलना) से बहती रहती थी। भूजल के अत्यधिक दोहन व कम बरसात के चलते इन नदियों में मात्र चंद दिनों के लिए ही पानी रहता है। इसके अतिरिक्त अन्य दिनों में इनमें प्रदूषित पानी ही बहता है।

इन छोटी नदियों के प्रदूषित होने से गंगा-यमुना जैसी बड़ी नदियां भी बदहाल हो गई हैं। इनके प्रदूषण का असर से जहां भूजल प्रदूषित हुआ है, वहीं इनके किनारे बसे गांवों/कस्बों व शहरों में जल-जनित जानलेवा बीमारियां पनप रही हैं। किनारे बसे गांवों की कृषि मिट्टी तथा खादान्नों पर भी विपरीत प्रभाव पड़ रहा है।

नदियों की उपरोक्त समस्याओं को देखते हुए तथा भविष्य की नदियों का एक खाका खींचते हुए उत्तर प्रदेश की नदी नीति का एक प्रस्तावित मसौदा तैयार किया गया है। इसको बनाने में देशभर के विषय विशेषज्ञ व नीति निर्माताओं का सहयोग लिया गया है। जब यह नदी प्रारूप नदी नीति का रूप लेगा तो प्रदेश की नदियों का कुछ भला हो सकेगा।

प्रस्तावित नदी नीति के कुछ खास बिन्दु -

1. भारत के समाज द्वारा सदियों से हमारी नदियों को पूर्णतः नैसर्गिक जीवंत एवं पोषक प्रणाली के रूप में मान्यता प्राप्त है। अब आवश्यकता है कि प्रत्येक नदी प्रणाली को एक प्राकृतिक व्यक्ति का संवैधानिक दर्जा प्रदान किया जाए।

2. प्रदेश में नदी भूमि क्षेत्र को नदी संरक्षित क्षेत्र अधिसूचित किया जाए। उदगम/प्रदेश में प्रवेश बिन्दु से लेकर नदी के अन्तिम छोर तक नदी क्षेत्र अधिसूचित किया जाए।

3. नदी में किसी भी तरह का शोधित व गैर-शोधित अवजल व ठोस अपशिष्ट न डाला जाए।

4. नदियों के प्रवाह की आजादी सुनिश्चित करने हेतु नदी की जमीन नदी की ही रहनी चाहिए।

5. नदी नीति के क्रियान्वयन हेतु राज और समाज को आगे रखते हुए ऐसी समन्वित प्रणाली विकसित की जानी चाहिए जिसमें दोनों की भूमिकाएं स्पष्ट परिभाषित हों।

6. नदी का जल और भूजल एक दूसरे के पूरक होते हैं, इसीलिए भूजल को नियंत्रित करने के लिए स्थानीय समाज के साथ बोरिंग की गहराई सुनिश्चित होनी चाहिए।

7. नदी पर बांध और तटबंध पर प्रतिबंधित होना चाहिए।

8. नदियों की भू-सांस्कृतिक विविधता का सम्मान करते हुए भू-आकृतिकी से छेड़-छाड़ नहीं की जानी चाहिए।

9. चूंकि नदी प्रबंधन में समाज जिम्मेदार भूमिका भी अपेक्षित है, अतः नदी से संबंधित सभी आंकड़े, योजनाओं तथा परियोजनाओं से संबंधित सूचना समुचित माध्यमों के जरिए संबंधित जन को उपलब्ध कराई जानी चाहिए।

10. नदी प्रबंधन करते समय परंपरागत भारतीय ज्ञान तंत्र तथा स्थानीय कौशल व तकनीक को प्राथमिकता दी जानी चाहिए।

11. बाढ को नहीं बाढ के विनास को रोकने का प्रयास करना चाहिए।

12. नदी नीति के क्रियान्वयन हेतु राज और समाज को सामने रखते हुए समन्वित प्रणाली विकसित की जानी चाहिए, जिसमें राज और समाज की भूमिका स्पष्ट रूप से परिभाषित होनी चाहिए। नदी और समाज के बीच सतत एवं मजबूत आपसी सम्पर्क व संवाद को स्थापित किया जाना चाहिए।

13. नदी की जैव-विविधता को प्राथमिकता देनी चाहिए न कि उपयोगिता को।

14. नदी जल के सीधे इस्तेमाल पर रोक होनी चाहिए।

15. प्रत्येक नदी का पर्यावरणीय प्रवाह सुनिश्चित किया जाए।

 

 

(रमन कान्त त्यागी)

निदेशक

नीर फाउंडेशन

9411676951

Related Pictures

कमेंट या फीडबैक छोड़ें

Must Read.

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - मोरकुक्का गाँव में स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने हेतु वाटर फ़िल्टर व आर.ओ का वितरण

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - मोरकुक्का गाँव में स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने हेतु वाटर फ़िल्टर व आर.ओ का वितरण Updates

नीर फाउंडेशन विगत कई वर्षों से काली नदी पूर्वी को निर्मल व स्वच्छ बनाने की दिशा में कार्य कर रही है. नदी के प्रदूषित जल द्वारा गांव में घुल ......

ईस्ट काली रिवर वॉटरकीपर - मोरकुक्का ग्राम को प्रदूषित जल से मुक्ति दिलाने हेतु नीर फाउंडेशन की सार्थक पहल

ईस्ट काली रिवर वॉटरकीपर - मोरकुक्का ग्राम को प्रदूषित जल से मुक्ति दिलाने हेतु नीर फाउंडेशन की सार्थक पहल Event

काली नदी पूर्वी के कारण आस पास के गांवों में घुल रहे प्रदूषण के जहर से मुक्ति दिलाने में नीर फाउंडेशन लंबे समय से प्रयासरत है. इसी कड़ी में 2......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर – सुधरेगी पूर्वी काली नदी की सेहत, केंद्र सरकार ने पारित किया 682 करोड़ का बजट

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर – सुधरेगी पूर्वी काली नदी की सेहत, केंद्र सरकार ने पारित किया 682 करोड़ का बजट Updates

काली नदी के जीर्णोद्धार के लिए कुछ विकास कार्यों को पहले ही मंजूरी मिल चुकी है. इसके अलावा अंतवाड़ा में एक झील का निर्माण होगा. उद्गम स्थल प......

रमन कांत – प्रकृति की सेवा के लिए संकल्पित एक जाना-माना नाम

रमन कांत – प्रकृति की सेवा के लिए संकल्पित एक जाना-माना नाम Updates

पर्यावरण संरक्षण की दिशा में कृत संकल्पित रमन कांत त्यागी जी एक ऐसी युवा शक्ति का नाम है, जिन्होंने अपना समस्त जीवन प्रकृति की सेवा में ही ल......

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - नकारने से और नासूर बन जाएगी मौसम परिवर्तन की समस्या

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - नकारने से और नासूर बन जाएगी मौसम परिवर्तन की समस्या Updates

24वां कन्वेंशन ऑफ द पार्टीज अर्थात कोप-24 के माध्यम से आगामी 2 से 14 दिसम्बर 2018 तक पोलैण्ड के शहर काटोवाइस में जलवायु परिवर्तन की गंभीर सम......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - लालच की भेंट चढ रहे समाज के आधार.. हमारे जलस्रोत

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - लालच की भेंट चढ रहे समाज के आधार.. हमारे जलस्रोत Updates

गैर-सरकारी संगठन नीर फाउंडेशन द्वारा मेरठ जनपद के परीक्षितगढ़ ब्लॉक के प्राकृतिक जल स्रोतों व अन्य जल संसाधनों पर एक रिपोर्ट तैयार की गई है। ......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - नदी सेवा : काली नदी की सफाई में श्रमदान हेतु आप सादर आमंत्रित हैं

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - नदी सेवा : काली नदी की सफाई में श्रमदान हेतु आप सादर आमंत्रित हैं Event

काली नदी सफाई हेतु जुटेंगे ग्रामीण - दो अक्टूबर से प्रारम्भ होगा सफाई कार्यनीर फाउंडेशन पिछले करीब एक दशक से गंगा की प्रमुख सहायक नदी काली प......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - उत्तर प्रदेश की प्रस्तावित नदी नीति : मेरठ घोषणापत्र

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - उत्तर प्रदेश की प्रस्तावित नदी नीति : मेरठ घोषणापत्र Updates

उत्तर प्रदेश की अधिकतर नदियां अब नाला बन गई हैं। बाढ़-सुखाड़ ने इन्हें मार दिया है, शहरीकरण ने इनकी आस्था एवं पर्यावरण रक्षा वाला व्यवहार और स......