गंदगी का दंश झेलती नदियों के लिए बेहतर प्रयास होना आवश्यक है. इसके चलते नीर फॉउंडेशन द्वारा जिस बिल की पिछले कई वर्षों से मांग की जा रही थी. उत्तर प्रदेश सरकार ने उस बिल को लेकर विचार किया. इसके बाद बेहतर और दमदार कदम उठाते हुए उत्तर प्रदेश ग्राउंड वाटर मैनेजमेंट एंड रेगुलेशन बिल 2019 (उत्तर प्रदेश भूजल प्रबंधन एवं विनियमन विधेयक 2019) को राज्य सभा में पास कर दिया. उम्मीद है जल्द ये कानून का रूप ले लेगा. भूजल का अधिक इस्तेमाल करने वाली इकाई या ड्रिलिंग एजेंसी कानून का उल्लंघन किया गया तो जुर्माना लगाया जायेगा. यह जुर्माना दो लाख रुपये से कम नहीं होगा और पांच लाख रुपये तक हो सकता है या जेल की सज़ा जो छह महीने से कम नहीं होगी.


इस विधेयक का मुख्य उद्देश्य भूजल का संरक्षण, नियंत्रण एवं विनियमन है. जिसमें संबंधित पहलुओं का अध्ययन करने के बाद तय किया कि जनहित में भूजल के इस्तेमाल का पहला अधिकार पेयजल, घरेलू इस्तेमाल और मवेशियों के लिए होगा. इसके अलावा विभिन्न स्तरों पर भूजल प्रबंधन समितियों के गठन का प्रावधान है. साथ ही प्राधिकरण सुनिश्चित करेगा कि कोई व्यावसायिक, औद्योगिक इकाई भूजल को प्रदूषित ना करे और आवश्यकतानुसार ट्रीटमेंट प्लांट लगाना अनिवार्य किया जाये. विधेयक में वर्षा जल संचयन, रूफटॉप वाटर हार्वेस्टिंग, भूजल स्तर बढ़ाना, वाटर रिसाइलकिंग, जल भराव की रोकथाम का प्रावधान रखा जाएगा. वहीं प्रावधान में समान्य लोगों और कृषि उपभोक्ताओं के लिए किसी भी प्रकार के दंड का प्रवधान नहीं है.


कई नदियों को इस गर्त से निकालने के प्रयास जारी हैं लेकिन दूसरी ओर जिन नदियों में जल है उनका सही संरक्षण भी जरूरी है. सभी बड़े एवं मझौले उद्योग दावा करते हैं कि उन्होंने तरल अपशिष्ट शोधन संयंत्र लगा रखे हैं. वे सामान्यत: जैव रसायन ऑक्सीजन मांग (बीओडी) के निर्धारित मानकों का पालन करते हैं लेकिन इसमें कितनी सच्चाई है इसका अंदाजा तो नदियों की स्थिति को देखकर लगाया जा सकता है. भूमिगत जल का भी आवश्यकता से अधिक दोहन किया जा रहा है जिससे लोगों को भविष्य में और भी कठिन हालातों का सामना करना पड़ेगा.

Related Pictures

क्या यह आपके लिए प्रासंगिक है? मेसेज छोड़ें.

Must Read.

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर- उत्तर प्रदेश ग्राउंड वाटर मैनेजमेंट एंड रेगुलेशन बिल 2019 पारित, भूजल का संरक्षण रहेगा मुख्य उद्देश्य

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर- उत्तर प्रदेश ग्राउंड वाटर मैनेजमेंट एंड रेगुलेशन बिल 2019 पारित, भूजल का संरक्षण रहेगा मुख्य उद्देश्य

गंदगी का दंश झेलती नदियों के लिए बेहतर प्रयास होना आवश्यक है. इसके चलते नीर फॉउंडेशन द्वारा जिस बिल की पिछले कई वर्षों से मांग की जा रही थी.......

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - मोरकुक्का गाँव में स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने हेतु वाटर फ़िल्टर व आर.ओ का वितरण

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - मोरकुक्का गाँव में स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने हेतु वाटर फ़िल्टर व आर.ओ का वितरण

नीर फाउंडेशन विगत कई वर्षों से काली नदी पूर्वी को निर्मल व स्वच्छ बनाने की दिशा में कार्य कर रही है. नदी के प्रदूषित जल द्वारा गांव में घुल ......

ईस्ट काली रिवर वॉटरकीपर - मोरकुक्का ग्राम को प्रदूषित जल से मुक्ति दिलाने हेतु नीर फाउंडेशन की सार्थक पहल

ईस्ट काली रिवर वॉटरकीपर - मोरकुक्का ग्राम को प्रदूषित जल से मुक्ति दिलाने हेतु नीर फाउंडेशन की सार्थक पहल Event

काली नदी पूर्वी के कारण आस पास के गांवों में घुल रहे प्रदूषण के जहर से मुक्ति दिलाने में नीर फाउंडेशन लंबे समय से प्रयासरत है. इसी कड़ी में 2......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर – सुधरेगी पूर्वी काली नदी की सेहत, केंद्र सरकार ने पारित किया 682 करोड़ का बजट

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर – सुधरेगी पूर्वी काली नदी की सेहत, केंद्र सरकार ने पारित किया 682 करोड़ का बजट

काली नदी के जीर्णोद्धार के लिए कुछ विकास कार्यों को पहले ही मंजूरी मिल चुकी है. इसके अलावा अंतवाड़ा में एक झील का निर्माण होगा. उद्गम स्थल प......

रमन कांत – प्रकृति की सेवा के लिए संकल्पित एक जाना-माना नाम

रमन कांत – प्रकृति की सेवा के लिए संकल्पित एक जाना-माना नाम

पर्यावरण संरक्षण की दिशा में कृत संकल्पित रमन कांत त्यागी जी एक ऐसी युवा शक्ति का नाम है, जिन्होंने अपना समस्त जीवन प्रकृति की सेवा में ही ल......

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - नकारने से और नासूर बन जाएगी मौसम परिवर्तन की समस्या

ईस्ट काली रिवर वाटर कीपर - नकारने से और नासूर बन जाएगी मौसम परिवर्तन की समस्या

24वां कन्वेंशन ऑफ द पार्टीज अर्थात कोप-24 के माध्यम से आगामी 2 से 14 दिसम्बर 2018 तक पोलैण्ड के शहर काटोवाइस में जलवायु परिवर्तन की गंभीर सम......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - लालच की भेंट चढ रहे समाज के आधार.. हमारे जलस्रोत

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - लालच की भेंट चढ रहे समाज के आधार.. हमारे जलस्रोत

गैर-सरकारी संगठन नीर फाउंडेशन द्वारा मेरठ जनपद के परीक्षितगढ़ ब्लॉक के प्राकृतिक जल स्रोतों व अन्य जल संसाधनों पर एक रिपोर्ट तैयार की गई है। ......

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - नदी सेवा : काली नदी की सफाई में श्रमदान हेतु आप सादर आमंत्रित हैं

ईस्ट काली रिवर वाटरकीपर - नदी सेवा : काली नदी की सफाई में श्रमदान हेतु आप सादर आमंत्रित हैं Event

काली नदी सफाई हेतु जुटेंगे ग्रामीण - दो अक्टूबर से प्रारम्भ होगा सफाई कार्यनीर फाउंडेशन पिछले करीब एक दशक से गंगा की प्रमुख सहायक नदी काली प......